ताज़ा खबर

छत्तीसगढ़ बना देश का पहला हंड्रेट परसेंट ओडीएफ स्टेट

रायपुर  सुकमा के मुरलीटोला गांव के आज सुबह ओडीएफ होते ही छत्तीसगढ़ हंड्रेड परसेंट ओडीएफ स्टेट बन गया। स्वच्छ भारत मिशन ने आज इसकी घोषणा कर दी। मिशन ने दो साल में 32 लाख टॉयलेट बनवाकर एक कीर्तिमान बनाया है। वो भी तब जब 2011 की जनगणना में छत्तीगसढ़ में सिर्फ 16 फीसदी घरों में टॉलयेट थे। हिन्दी
भारत सरकार की टीम ओडीएफ का पैरेलेल वेरिफिकेशन भी कर रही है। वेरिफिकेशन के बाद केंद्र भी कंप्लीट ओडीएफ स्टेट का ऐलान कर देगा। भारत स्वच्छ मिशन के डायरेक्टर विलास संदीपन ने बताया कि छत्तीसगढ़ आज पूर्ण रूप से ओडीएफ हो गया। भारत सरकार की टीम 70 फीसदी से अधिक पंचायतों का वेरिफिकेशन पूरा कर लिया है। उन्होंने उम्मीद जताई है कि इस महीने के अंत तक वेरिफिकेशन के बाद केंद्र सरकार छत्तीसगढ़ को ओडीएफ स्टेट घोषित कर देगा।
बड़े हिन्दी राज्यों में छत्तीसगढ़ देश का पहला हंड्रेड परसेंट ओडीएफ स्टेट होगा। मध्यप्रदेश, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, बिहार, गुजरात, कर्नाटक, महाराष्ट्र जैसे बड़े राज्यों में अभी टारगेट से अभी आधा काम भी नहीं हुआ है। इन राज्यों के अफसर ओडीएफ को देखने लगातार छत्तीसगढ़ आ रहे हैं। कुछ महीना पहिले भी देश के 200 जिलों के कलेक्टर यह देखने रायपुर आए थे कि किस तरह छत्तीसगढ़ इतनी तेजी से काम कर रहा है। छत्तीसगढ़ का ओडीएफ इस मायने में अलग है कि यहां सिर्फ टॉयलेट बना नहीं रहे हैं बल्कि लोगों को इसके मुक्कमल इस्तेमाल के लिए प्रेरित किया जा रहा है। हाल ही में रिटायर हुए एसीएस पंचायत एमके राउत ने ओडीएफ पर बड़ा काम किया। उनके कांसेप्ट, टॉयलेट बनाकर इस्तेमाल करने के बाद पैसा दिया जाएगा काफी प्रभावी रहा।
अभी तक सिक्किम, हिमाचल प्रदेश, केरला, उत्तराखंड और अरुणाचल प्रदेश ओडीएफ हो चुके हैं। लेकिन, इन राज्यों में ओडीएफ की संख्या बेहद कम है। मसलन, हिमाचल में तीन हजार टॉयलेट बने हैं। जो छत्तीगसढ़ के जांजगीर जिले से कम होगा। बहरहाल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ओडीएफ के सपने को पूरा करने में बड़े राज्यों में छत्तीसगढ़ काफी आगे निकल गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *