ताज़ा खबर

BJP के वोट काटने राहुल ने कि नक्सल गढ़ में ऐसी प्लानिंग…सब चौक गए

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी शुक्रवार को 3:45 बजे जगदलपुर पहुंचे। वहां हवाई पट्टी पर उनका वेलकम किया गया। इसके बाद वो सीधे गणपति रिसोर्ट गए। वहीं डेलीगेशन से मिलने और ट्रेनिंग में शरीक होने की योजना है उनकी। राहुल गांधी शनिवार को दिल्ली के लिए रवाना होंगे। राहुल गांधी की सुरक्षा में लगाई गई टाइड सिक्योरिटी के चलते कई विधायक और पूर्व मंत्री को परेशानी का सामना करना पड़ा।
 -आगामी चुनाव में कांग्रेस पार्टी का वोट बैंक बनाने व वोट न बिखरे इसके लिए राज्य में कार्यकर्ताओं की ट्रेनिंग पर जोर दिया जा रहा है।
-इसी के तहत अभी तक 34 ट्रेनिंग हो चुके हैं। इन दो दिनों में 8 बस्तर संभाग के 8 विधान सभाओं की ट्रेनिंग होगी। शुक्रवार को ४ विधान सभाओं की ट्रेनिंग गणपति रिसोर्ट में की गई।
हवाई पट्टी पर ये पहुंचे स्वागत में
-राहुल गांधी के वेलकम के लिए भूपेश बघेल (कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष), नेता प्रतिपक्ष पीएस सिंह देव, पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री चरण दास महंत, छत्तीसगढ़ के प्रदेश प्रभारी पीएल पूनिया, प्रदेश प्रभारी सचिव कमलेश्वर पटेल, रायपुर ग्रामीण के विधायक सत्यनारायण शर्मा, महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष फूलो देवी नेताम, पूर्व नेता प्रतिपक्ष रवींद्र चौबे समेत बस्तर संभाग के कई विधायकों जगदलपुर हवाई पट्टी पहुंचे।
-वहां राहुल गांधी का वेलकम करने के बाद सभी लोग गणपति रिसोर्ट पहुंचे।
-यहां उन्होंने सेवा दल की परेड की सलामी ली। उन्होंने ट्रेनिंग शेषन को विजिट किया। वे शनिवार को होने वाले ट्रेनिंग शेषन में शामिल होंगे।
डेलीगेशन से करेंगे मुलाकात
-राहुल गांधी ट्रेनिंग शेषन विजिट करने के बाद सर्किट हाउस में ही 3 डेलीगेशन से मुलाकात करेंगे।
-इनमें एनएसयूआई, महिला कांग्रेस और यूथ कांग्रेस का डेलीगेशन और बस्तर परिवहन संघ के 35 लोग मिलेंगे।
सिक्योरिटी से यूं उलझे लोग
-एनएसजी की सुरक्षा इतनी कड़ी है कि कार्यकर्ताओं को राहुल गांधी से मिलने के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। पूर्व विधायक और पूर्व राज्य मंत्री तक को परेशानी का सामना करना पड़ा।
-बीजापुर के पूर्व जिला अध्यक्ष अजय सिंह प्रवेश करने की कोशिश कर रहे थे तब सुरक्षा बलों के साथ उनकी धक्कामुक्की भी हो गई।
इसलिए हो रही है ट्रेनिंग
-राहुल गांधी को जब ये बताया गया कि बीजेपी का वोट बैंक इसलिए नहीं बिखरता है क्योंकि उस पार्टी में कैडर है।
-ऐसे में पार्टी में कैडर लाने के लिए ये ट्रेनिंग दी जा रही है। इसमें बूथ मैनेजमेंट, सोशल मीडिया, कांग्रेस की विचारधारा और बीजेपी-आरएसएस की विचारधारा पर ट्रेनिंग दी जा रही है।
-बूथ मैनेजमेंट की ट्रेनिंग राजेश तिवारी दे रहे हैं जो बस्तर प्रभारी और विधायक दल के सचिव हैं।
-सोशल मीडिया की ट्रेनिंग विनोद वर्मा दे रहे हैं। कांग्रेस विचारधारा पर सुरेंद्र शर्मा ट्रेनिंग दे रहे हैं जो पीसीसी के प्रवक्ता हैं।
-बीजेपी और आरएसएस की विचारधारा की ट्रेनिंग करुणा शुक्ला दे रही हैं। ये पहले बीजेपी की कद्दावर नेत्री थी। ध्यान देने वाली बात है कि करुणा पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेई की भतीजी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *