ताज़ा खबर

गांधी को लिखी गई चिट्ठी की हकीकत- असिस्टेेंट कमाडेंट की बहन को जान का खतरा

नई दिल्ली। जम्मू से असिस्टेंट कमांडेंट नबील अहमद वानी और उनकी बहन को आतंकियों से कोई धमकी नहीं मिली है। दरअसल नबील वानी ने मेनका गांधी को इसलिए चिठ्ठी लिखी थी क्यों की कॉलेज चाहता है कि उनकी बहन हॉस्टल छोड़ दे। ऐसे में वानी ने मेनका को चिट्ठी लिखकर कहा है कि हॉस्टल से बाहर रहने पर मेरी बहन खतरा हो सकता है। क्योंकि कश्मीर के सरकारी अधिकारियों को खतरा बना रहता है इसलिए हॉस्टल में ही रहने दिया जाए। असिस्टेंट कमांडेंट वानी ने पिछले साल बीएसएफ असिस्टेंट कमांडेंट की परीक्षा में टॉप किया था।

नबील की बहन निदा के लिए हॉस्टल की व्यवस्था
वानी ने कहा कि चंडीगढ़ में सिविल इंजीनियरिंग की छात्रा उनकी बहन एक हॉस्टल में रह रही थी लेकिन कॉलेज प्रशासन अब चाहता है कि वह कहीं और चली जाएं। वानी ने 14 मई को महिला और बाल विकास मंत्री मेनका गांधी को पत्र लिखकर निदा रफीक के लिए हॉस्टल सुविधा की व्यवस्था कराने के लिए कहा। वानी ने ग्वालियर के नजदीक टेकनपुर में बीएसएफ प्रशिक्षण अकादमी से फोन पर कहा, वह चिंतित है कि उसे एक कश्मीरी होने खासतौर से मेरी पृष्ठभूमि के कारण रहने की जगह नहीं मिलेगी। मैं निजी मामले में बीएसएफ को शामिल नहीं करना चाहता इसलिए मैंने मंत्री को पत्र लिखा।
जवानों को छुट्टी के दौरान हथियार की अनुमति
वानी ने कहा कि उन्होंने बीएसएफ में अपने वरिष्ठ अधिकारियों से कहा कि जवानों को छुट्टी पर जाने के समय अपने हथियार साथ ले जाने की अनुमति दी जाए। खासतौर पर आतंकवाद प्रभावित इलाकों में रहने वालों के लिए। उन्होंने कहा कि वह अगले दो महीने में अपने रिश्तेदार की शादी के लिए घर जाएंगे। वानी ने कहा, मेरे और मेरे परिवार के सदस्यों जैसे लोगों को हमेशा आतंकवादियों से धमकी मिलती रहती है।। लेफ्टिनेंट उमर फयाज की हत्या के बाद मैं अपने परिवार की सुरक्षा को लेकर चिंतित हूं। मेरी मां जम्मू में अकेली रहती है, जबकि मेरी बहन चंडीगढ़ में है। मैं अब चिंतित हूं क्योंकि आतंकवादी हमारे परिवारों को निशाना बना रहे हैं। वानी ने मेनका को 14 मई को पत्र लिखा था और उन्हें अगले दिन ही जवाब मिला था।
हॉस्टल में रहने की इजाजत मिली
मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा- मंत्री ने इस मामले को लेकर तुरंत कॉलेज प्रशासन से बात की, जिन्होंने अब बीएसएफ के असिस्टेंट कमांडेंट नबील की बहन को हॉस्टल में रहने की इजाजत दे दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *